कहानी और Gender

कहानी और Gender

बच्चों से मैंने पूछा कि कोई ऐसी कहानी सुनाओ जो तुमने सुनी हो |

एक बच्चे ने बोला “खरगोश और कछुए की कहानी” जिसमे दोनों लोग रेस लगाते है |

दूसरे बच्चे ने बोला “ कौवे की कहानी जिसमे वह पानी पीने के लिए पथर डालता है”

तीसरे बच्चे ने बोला “शेर की कहानी जो गाँव में आ जाता है| “

मैंने उनसे पूछा “अच्छा बताओ, इन तीनों कहानियों में एक जैसा क्या है?”

बच्चे सोचने लगे । तभी एक बच्चे ने बोला-“ यह जानवरों की कहानी है |”

मैं पूछा- “और क्या एक जैसा है ?“

लेकिन इस बार किसी का जबाब नहीं आया |

मैंने बोला “अच्छा बताओ, तीनों कहानियों में जानवर लड़का क्यों है ? लड़की क्यों नहीं है?”

बच्चों ने बोला “पता नहीं सर “

अच्छा बताओ लड़के-लड़कियां एक जैसे होते है या अलग-अलग? – मैंने पूछा |

ज़्यादतर बच्चों ने बोला अलग-अलग |

मैंने पूछा “बताओ Bullet कौन चलता है?”

बच्चों ने तुरंत जवाब दिया- “ लड़के “

कुछ लड़कियां बोली “Girls भी चलाते है| हमने देखा है सर।  ”

मैंने पूछा -“ बताओ shaving कौन करता है ?

बच्चों ने फिर बोला  “लड़के “

फ़िर कुछ लड़कियों ने बोल “ लड़कियां भी करती है”

इसी तरह 2-3 और सवाल पूछने के बाद मैंने फिर से उनसे पूछा “बताओ फिर लड़के-लड़कियां एक जैसे होते है या अलग अलग ? “

धीरे आवाज में बच्चों ने बोला  “एक जैसे ही है”

मुझे थोड़ी खुशी मिली। मैंने बोला “ लड़के-लड़की आपस में दोस्ती करेंगे फिर?”

इतना बोलने की देर थी ,फिर बच्चे एक दूसरे से लड़ने लगे | लड़के गधे होते है | लड़कियां बेवकूफ होती है | फलाना ढिमकना..

मुझे लगा आज के लिए इतना काफी है | मैंने उनसे घर जाकर उनके घर वालों से पूछने के लिए कहा |

बताइए आपको  मेरी कोशिश कैसी लगी ? इसे और कैसे बेहतर किया जा सकता है ?

नीचे कमेन्ट बॉक्स में अपने सुझाव दे |


Author:

Kushal_Headshot

Kushal is a entrepreneur with a master’s degree from Springfield College, USA. Before pursuing his master’s degree, Kushal worked for a global IT firm for six years before quitting.

He has a total of 4.5 years of experience in the education development sector. His primary interest is Social Emotional Learning to improve educational outcomes for primary and middle school children.

He has completed a one-year fellowship with the Azim Premji foundation where he was involved in teaching in a Primary school classroom. The experience has helped him to understand the issue children face at home and in school.

Kushal was a quiet child in class. But the confidence he gained from sports helped him to transform to be a better person academically, socially and emotionally. He started Monkey sports with the vision to empower children through sports.

Leave a Reply

%d bloggers like this: